how to read a book in hindi

किताब पढ़ने की बेहतरीन कार्यनीतियाँ

अच्छी किताबें पढ़ने का महत्व हर कोई जानता है। सभी जानते हैं कि पढ़ना कैसे मदद करता है और यह कितना उपयोगी है। कुछ दिनों तक आप उत्साह के साथ पढ़ते हैं, लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतते हैं, आपकी रुचि कम होती जाती है। आप पढ़ना चाहते हैं लेकिन आपको पढ़ने पर ध्यान केंद्रित करना कठिन लगता है। आपका ध्यान केंद्रित नहीं हो पाता है और आप पढ़ने को अपनी आदत बनाने में असफल हो जाते हैं। ऐसा होता है क्योंकि आत्म अनुशासन में रहना हमारे लिए आसान नहीं होता है.

चाहे आप कोई भी ट्रेड जर्नल, या ब्लॉग, या पोस्ट या कोई उपयोगी किताबें या अखबार पढ़ रहे हों, ऐसी कई कार्य-नीतियाँ (Strategies/tactics) हैं जिनका उपयोग आप जल्दी पढ़ने के लिए कर सकते हैं। हाँ, आप एक ही समय में जल्दी से पढ़ सकते हैं और उनसे लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप किताबें पढ़ना पसंद नहीं करते हैं तो आप ऑडियोबुक प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन पढ़ना सुनने से बेहतर है। सुनना आसान है लेकिन पढ़ना अधिक उपयोगी है।

इसलिए आज मैं कुछ कार्यनीतियों को साझा करूंगा जो आपके पढ़ने के कौशल (reading skill) को बेहतर बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं। ये आपको पढ़ने की अपनी दैनिक आदत बनाने में भी मदद करते हैं। चलिए शुरू करते हैं कि किसी भी किताब का सबसे अधिक लाभ उठाने के लिए किताब कैसे पढ़ें।

पुस्तक कैसे पढ़ें –

कार्यनीति 1: जल्दी मत करो

यह बिंदु मुख्य रूप से शुरुआती लोगों के लिए है जिन्होंने अभी पढ़ना शुरू किया है। यदि आपने अभी पढ़ना शुरू किया है, तो अपने आप को मजबूर न करें। शुरुआत में धीमी गति से, पढ़ने के लिए एक सरल और आसान पुस्तक चुनें।

प्रतिदिन पढ़ें, पढ़ने की आदत डालें। लेकिन कुछ पन्नों के साथ शुरू करें, अपने आप को पढ़ने के पहले दिन एक पूरी किताब पढ़ने के लिए मजबूर न करें। किसी विशेष समय पर नियमित रूप से कम से कम कुछ पृष्ठ पढ़ें। और हर दिन पढ़ने के लिए पेज बढ़ाएं।

उदाहरण के लिए, यदि आप 3 पृष्ठ पढ़ते हैं तो अगले दिन एक और पृष्ठ बढ़ाते हैं, अर्थात् दूसरे दिन 4 पृष्ठ पढ़ते हैं और इसी प्रकार बढ़ते चले जाते हैं।

किसी विशेष पुस्तक के प्रति आपकी जिज्ञासा बढ़ने के साथ आपकी पढ़ने की आदत भी मजबूत होगी। अगर आप खुद को मजबूर करेंगे तो आप आसानी से ऊब जाएंगे। इसलिए, इसे अपनी दैनिक आदत बनाने की कोशिश करें। शुरुआत में धीमी गति से आगे बढ़ें और धीरे-धीरे आपके पढ़ने का समय बढ़ता जाएगा।

कार्यनीति 2: कल्पना / प्रत्योक्षकरण

जब आप पढ़ने के लिए किसी विशेष पुस्तक का चयन करते हैं, एक पुस्तक जिससे आपको लगता है कि आप कुछ महान सीखेंगे और यह आपको अपने जीवन में बढ़ने में मदद करेगी। जब आप उस पुस्तक को पढ़ना शुरू करते हैं, तो अपनी कल्पना का उपयोग करें। पाठ में पात्रों और घटनाओं की मानसिक छवियां (प्रत्योक्षकरण) बनाएं।

उदाहरण के लिए, यदि आप एक महान नेता की प्रेरणादायक कहानी पढ़ रहे हैं, तो उस पूरी कहानी को अपने दिमाग में मानसिक- दर्शन और कल्पना (visualization and imagination) करें।

यह युक्ति आपकी कल्पना और दृश्य बोध का उपयोग करेगी। जब आपकी इंद्रियां काम करना शुरू कर देती हैं, तो उस विशेष चीज के लिए आपकी उत्सुकता भी बढ़ जाती है।

कार्यनीति 3: खुद से सवाल पूछें?

जब आप पढ़ने जाते हैं, तो किसी विशेष बिंदु पर रुकें और खुद से ये सवाल पूछें।

थोड़ा रुकें और अपने आप से ये सवाल पूछें –

  • क्या आप जो किताब पढ़ रहे हैं, उसका कोई मतलब है?
  • क्या यह आपके जीवन में आपकी मदद करने वाली है, या आप इसे सिर्फ टाइम पास के लिए पढ़ रहे हैं?
  • इस पुस्तक के माध्यम से आप क्या सीख रहे हैं?
  • क्या यह आपके वास्तविक जीवन में आपकी मदद करेगी?
  • क्या यह आपके आत्म-विकास में आपकी मदद करेगी?

उदाहरण के लिए, एक प्रेरणादायक पुस्तक पढ़ना बहुत उपयोगी हो सकता है। यह पुस्तक आपको विभिन्न नई चीजों को सीखने में मदद करेगी और इस जीवन को एक अलग और नए तरीके से देखने में भी आपकी मदद करेगी।

इसलिए, उपयोगी किताबें पढ़ें। और यह समझने के लिए कि आप जो किताब पढ़ रहे हैं वह उपयोगी है या नहीं, अपने आप से सवाल पूछें, और यदि संभव हो, तो एक विशेषज्ञ से पूछें।

अगर आप कम समय में किसी स्किल में निपुण होना चाहते हैं तो यह पढ़ें. >> कम समय में किसी Skill में कैसे कुशल बनें?

कार्यनीति 4: कनेक्टिविटी

यहाँ आपको जो करने की ज़रूरत है वह यह है कि आप जिस किताब को पढ़ रहे हैं, उससे खुद को रिलेट करें।

उदाहरण के लिए, पुस्तक पढ़ते समय, आप समझते हैं कि इस समय आप जिस स्थिति से गुजर रहे हैं, वह उस पुस्तक में भी उल्लिखित है जिसे आप पढ़ रहे हैं। यह पाठ आपको उस स्थिति से बाहर निकलने के लिए एक समाधान खोजने में मदद करेगा।

आपको पाठ को अपने और अपने आसपास की दुनिया से संबंधित करने के तरीके खोजने की आवश्यकता है।

कार्यनीति 5: इसे लिखें

आपको लेखक के उद्देश्य को निर्धारित करना है। आपको इस विशेष पुस्तक को लिखने के लेखक के विचार की पहचान करने की आवश्यकता है। आपको किताब के बारे में हर छोटी-बड़ी डिटेल का पता लगाना चाहिए। पुस्तक और पाठ के विषय के पीछे मुख्य विचार क्या है?

जब आप पुस्तक को पूरा पढ़ लेते हैं, तो आपको इसका सारांश (summary) लिखने की आवश्यकता होती है। महत्वपूर्ण बिंदु और विचार, जो आपने इस विशेष पुस्तक से सीखे हैं, जिन विचारों को आप अपने जीवन में भी लागू करना चाहते हैं।

यह सारांश आपको उस पुस्तक को याद करने में मदद करेगा, जिसे आपने अच्छी तरह से पढ़ा है और आपको इसके नोट्स बनाने में भी मदद करेगा। यह बहुत मदद कर सकता है।

कई प्रसिद्ध लोग हैं जो नियमित रूप से किताबें पढ़ते हैं और अपनी सफलता के लिए पुस्तकों को श्रेय देते हैं। बिल गेट्स का कहना है कि एक किताब पढ़ने के बाद, वे इससे नोट्स बनाते थे, जिससे उन्हें अपने जीवन में बहुत मदद मिली है।

आपके द्वारा सीखी गई कुछ चीज़ों को लिखना आपको इसे अच्छी तरह से और ठीक से याद करने में मदद कर सकता है। और इसके माध्यम से, इसका कार्यान्वयन (Implementation) आसान हो जाता है।

प्रेरणादायी पुस्तकें

जिंदगी बदलने वाली 30 बेहतरीन किताबें