best gulzar shayari in hindi

Gulzar Shayari in Hindi | गुलज़ार साहब की 37 जहरीली शायरी

Gulzar Shayari in Hindi – गुलज़ार साहब द्वारा लिखी गई शायरी, दिल को छूने वाले गाने, नज़्म, ग़ज़लें, रोमांटिक विचार आज भी सभी के होठों पर हैं। वहीँ गुलज़ार साहब आज भी अपने जादुई शब्दों से सभी के दिलों पर राज करते हैं। आज हम यहाँ पर आपके लिए लाए हैं गुलज़ार साहेब द्वारा लिखी गई कुछ बेहतरीन शायरी हिंदी फोंट में।

गुलज़ार शायरी

मैं कभी सिगरेट पीता नहीं
मगर हर आने वाले से पूछ लेता हूँ कि माचिस है?
बहुत कुछ है जिसे मैं फूँक देना चाहता हूँ.

गुलज़ार साहब
Gulzar Shayari in Hindi गुलज़ार शायरी
Gulzar Shayari in Hindi – गुलज़ार शायरी

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की

Gulzar Sahab

हम तो कितनों को मह-जबीं कहते
आप हैं इस लिए नहीं कहते

गुलज़ार साहब

चाँद होता न आसमाँ पे अगर
हम किसे आप सा हसीं कहते

Gulzar Sahab

सहमा सहमा डरा सा रहता है
जाने क्यूँ जी भरा सा रहता है

गुलज़ार साहब

एक पल देख लूँ तो उठता हूँ
जल गया घर ज़रा सा रहता है.

Gulzar Sahab

Gulzar 2 Line Shayari – गुलज़ार शायरी 2 लाइन्स

Gulzar Shayari in hindi 2 Lines
Gulzar Shayari in Hindi 2 lines

अपने साए पे पाँव रखता हूँ
छाँव छालों को नर्म लगती है

गुलज़ार साहब

Apane saaye pe paanv rakhta hoon
Chhaanv chhaalon ko narm lagati hai

चाँद की नब्ज़ देखना उठ कर
रात की साँस गर्म लगती है

Gulzar Sahab

Chaand ki nabz dekhna uth kar
Raat ki saans garm lagti hai

हवा के सींग न पकड़ो खदेड़ देती है
ज़मीं से पेड़ों के टाँके उधेड़ देती है

गुलज़ार साहब

Hawa ke seeng na pakdo khaded deti hai
Zameen se pedon ke taanke udhed deti hai

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमड़ती बारिश को
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है

Gulzar Sahab

Main chup karaata hu har shab umadati baarish ko
Magar ye roz gayi baat chhed deti hai

अनमोल नहीं लेकिन फिर भी
पूछ तो मुफ़्त का मोल कभी

गुलज़ार साहब

Anmol nahin lekin phir bhi
Puchh to muft ka mol kabhi

गुलज़ार की दर्द भरी शायरी – Gulzar Sad Shayari

गुलज़ार की दर्द भरी शायरी Gulzar Sad Shayari
गुलज़ार की दर्द भरी शायरी – Gulzar Sad Shayari

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें

Gulzar Sahab

Chand ummeede nichodi thi to aahen tapaki
Dil ko pighlaen to ho sakta hai saanse nikale

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें

गुलज़ार साहब

Waqt kee zarb se kat jaate hain sab ke seene
Chand ka chhilka utar jae to qaashen nikale

मुझे अँधेरे में बे-शक बिठा दिया होता
मगर चराग़ की सूरत जला दिया होता

Gulzar Sahab

Mujhe andhere mein be-shak bitha diya hota
Magar charaag ki surat jala diya hota

ये शुक्र है कि मिरे पास तेरा ग़म तो रहा
वगर्ना ज़िंदगी ने तो रुला दिया होता

गुलज़ार साहब

Ye shukr hai ki mire paas tera gam to rha
Vagarna zindagi ne to rula diya hota

खिड़की में कटी हैं सब रातें
कुछ चौरस थीं कुछ गोल कभी

Gulzaar

Khidaki mein kati hain sab raate
Kuchh chauras thi kuchh gol kabhi

यह भी पढ़ें –

Gulzar Best Shayari in Hindi

Gulzar Best Shayari in Hindi
Best Gulzar Shayari in Hindi

तिनका तिनका काँटे तोड़े सारी रात कटाई की
क्यूँ इतनी लम्बी होती है चाँदनी रात जुदाई की

Gulzaar

Tinka tinka kaante tode saari raat katayi ki
Kyu itni lambi hoti hai chandni raat judayi ki

सीने में दिल की आहट जैसे कोई जासूस चले
हर साए का पीछा करना आदत है हरजाई की

Gulzaar

Seene mein dil ki aahat jaise koi jasoos chale
Har saye ka peechha karna aadat hai harajai ki

आँखों और कानों में कुछ सन्नाटे से भर जाते हैं
क्या तुम ने उड़ती देखी है रेत कभी तन्हाई की

Gulzar Shayari

Aankhon aur kaano mein kuchh sannaate se bhar jaate hain
Kya tum ne udati dekhi hai ret kabhi tanhai ki

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़
किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे

Gulzar Shayari

Kabhi to chaunk ke dekhe koi hamari taraf
Kisi ki aankh mein ham ko bhi intzaar dikhe

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
आदत इस की भी आदमी सी है

Gulzar Shayari

Waqt rahta nahin kahi tik kar
Aadat is ki bhi aadmi si hai

Gulzar Shayari on Love – गुलज़ार शायरी

Gulzar Shayari on Love
Gulzar Shayari on Love – Gulzar Shayari on Intezaar

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhari khushk si aankhe bhali nahi lagti
Wo saari cheeze jo tum ko rulayen, bheji hain

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Gulzar Shayari on Love

Tumhare khwab se har shab lipat ke sote hain
Szaye bhej do ham ne khtaayen bheji hain

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Gulzar Shayari on Love

Aap ke baad har ghadi ham ne
Aap ke saath hi guzaari hai

आँखों के पोछने से लगा आग का पता
यूँ चेहरा फेर लेने से छुपता नहीं धुआँ

Aankhon ke pochhne se laga aag ka pata
Yu chehra pher lene se chhupta nahi dhuaa

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें

Chnd ummeede nichodi theen to aahen tapki
Dil ko pighlaayen to ho sakta hai saanse nikle

आज फिर जागते गुज़रेगी तेरे ख्वाब में रात
आज फिर चाँद की पेशानी से उठता है धुआँ

Aaj phir jaagte guzregi tere khwab mein raat
Aaj phir chaand ki peshani se uthta hai dhuaa

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi
Gulzar shayari in hindi

चूल्हे नहीं जलाए कि बस्ती ही जल गई
कुछ रोज़ हो गए हैं अब उठता नहीं धुआँ

Chulhe nahi jalaye ki basti hi jal gayi
Kuchh roz ho gyi hain ab uthta nahi dhuaa

ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं
कांच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में

Zor se baj na uthe pairo ki aawaaz kahi
Kaanch ke khwab hain bikhre huye tanhai me

ख़्वाब टूटे न कोई जाग न जाए देखो
जाग जाएगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा

Khwab tute na koi jaag na jaye dekho
Jaag jayega koi khwab to mar jayega

फिर किसी दर्द को सहलाकर सुजा ले आँखें
फिर किसी दुखती हुई रग में छुपा दें नश्तर

Phir kisi dard ko sahlaakar suja le aankhe
Phir kisi dukhti huyi rag me chhupa de nashtar

मेरी दहलीज़ पर बैठी हुयी जानो पे सर रखे
ये शब अफ़सोस करने आई है कि मेरे घर पे

Gulzar Shayari in Hindi

Meri dahleez par baithi huyi jaano pe sar rakhe
Ye shab afasos karne aayi hai ki mere ghar pe

गुलज़ार साहब की शायरी – Gulzar Shayari in Hindi

gulzar sahab ki shayari
Gulzar Sahab ki Shayari – Gulzar Shayari on Yaadein

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina dekh kar tasalli hui
Ham ko is ghar me jaanta hai koi

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath chhoote bhi to rishte nahi chhoda karte
Waqt ki shaakh se lamhe nahi toda karte

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitni lambi khamoshi se guzra hu
Un se kitna kuchh kahne ki koshish ki

कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

गुलज़ार शायरी

Koi atka hua hai pal shayad
Waqt me pad gya hai bal shayad

आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

गुलज़ार शायरी

Aa rahi hai jo chaap qadamo ki
Khil rhe hain kahi kanwal shayad

दोस्तों अगर आपको ये गुलज़ार साहब की शायरी (Gulzar Shayari in Hindi) पसंद आई हों, तो दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें. पढने के लिए धन्यवाद.

यह भी पढ़ें-